Articles

कॉर्पोरेट को लाल सलाम कहने की बेताबी में शोर मचाती ‘महान मार्क्सवादी चिंतक’ और ‘पूंजी के अध्येता’ की ‘मार्क्‍सवादी मंडली’ का घोर राजनैतिक पतन [2]

प्रोलेटेरियन रिऑर्गनाइज़िंग कमिटी, सी.पी.आई. (एम.एल.) यह लेख ‘आह्वान’ पत्रिका में छपी आलोचना की प्रति आलोचना की दूसरी किश्त है। यथार्थ, अंक 11 में छपी पहली किश्त पढ़ने के लिए इस लिंक पर जाएं – “कार्पोरेट के नए हिमायती क्‍या हैं और वे क्रांतिकारियों से किस तरह लड़ते हैं [1]” अंग्रेजी में इस प्रति आलोचना की पहली… Continue Reading →

Apologists Are Just Short Of Saying “Red Salute To Corporates” [2nd Instalment]

What The New Apologists Of Corporates Are And How They Fight Against Revolutionaries [Second Instalment] Proletarian Reorganizing Committee, CPI (ML) Originally published in ‘The Truth’, Issue 12 (April 2021), this is the second instalment of the reply to a criticism presented in ‘Aahwan’ magazine. The first and second instalment of the criticism can be read… Continue Reading →

कार्पोरेट के नए हिमायती क्‍या हैं और वे क्रांतिकारियों से किस तरह लड़ते हैं [1]

पी.आर.सी., सी.पी.आई. (एम.एल.) यह लेख ‘आह्वान’ पत्रिका में छपी आलोचना की प्रति आलोचना है, जो मूलतः ‘यथार्थ’ पत्रिका, अंक 11 (मार्च 2021) में प्रकाशित हुई है। आलोचना को पाठक इस लिंक पर जा कर पढ़ सकते हैं। इस प्रति आलोचना का अंग्रेजी संस्करण पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। इस लेख की दूसरी किश्त को हिंदी व अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए क्रमशः यहां और यहां क्लिक करें। [प्रथम किश्त][1] मुख्य बात पर… Continue Reading →

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑